ऊठत

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊठत पु क्रि॰ वि॰ [हिं॰ उठना] उठते हुए । उ॰—बैठत राम हिं ऊठत रामहि, बोलत रामहि राम रह्यो हैं ।—सुंदर॰ ग्रं॰, पृ॰ ५०२ ।