ऊड़ी

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊड़ी ^१ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ उड़ना]

१. जुलाहों के डाँड़े वा सेठे में लगा हुआ टेकुआ जिसपर लपेटे हुए सूत को जुलाहे पट्टी पर घूम घूम कर चढ़ाते जाते हैं । दुतकला ।

२. रेशम खोलनेवालों की चरखी जिसपर वे लोग संगल वा रेशम के बड़े बड़े लच्छों को डालकर एक प्रकार की परेती पर उतारते हैं ।

ऊड़ी ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ √ब्रुड़ (वर्ण विपर्यय)=डूबना, हिं॰ बूड़ना]

१. बुड्डी । गोता । क्रि॰ प्र॰—मारना ।

२. पनडुब्बी चिड़िया । उ॰—भौंह घनुक पल काजल बूड़ी़ । वह भइ धानुक हौं भयो ऊड़ी । —जायसी (शब्द॰) ।