ऊत

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊत वि॰ [सं॰ अपुत्र, प्रा॰ अउत्त]

१. बिना पुत्र का । निःसंतान । निपूता । यौ॰—ऊन निपूता=निःसंतान । बे औलाद । विशेष—एक प्रकार की गाली है जिसे स्त्रियाँ बहुत देती हैं ।

२. उजड्ड । बेबकूफ । उ॰—टोटे में भक्ती करै, ताका नाम सपूत । माया धारी मस्खरे, केते ही गये ऊत ।—कबीर॰ सा॰ स॰, भा॰ १, पृ॰ ३६ ।

ऊत ^२ संज्ञा पुं॰ वह निःसंतान मरने के कारण पिंड आदि न पाकर भूत होता है । उ॰—ऊत के ऊत, उजाड़ के भूत । सीता के सराये, जनक के शराबी (शब्द॰) ।