ऊपरहार

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊपरहार संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ ऊपर+देश. हार] गाँव से दूर स्थित कम उपजाऊ भूमि । उ॰—गौहान की भूमि और ऊपरहार की भूमि में भी अंर माना जाता है । —कृषि॰, पृ॰ ५० ।