ऊभट

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊभट पु संज्ञा पुं॰ [हिं॰ ऊबट] दे॰ 'ऊबट' । उ॰—पूरे को पूरा मिलै, पडै सो पूरा दाव । निगुरा तो ऊभट चलै, जब तब करै कुदाव । —कबीर सा॰ सं॰, भा॰ १, पृ॰ १७ ।