ऊलहना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऊलहना पु क्रि अ॰ [सं॰ उत्+लस्; प्रा॰ उल्लअ, उल्लर]

१. विकासित होना ।

२. दे॰ 'उलसना' ॰ उ॰—दोष बसंत को दीजै कहा, उलही न करील की डारन पाती ।—पधाकर ग्रं॰, पृ॰ २३८ ।