एकंत

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

एकंत पु वि॰ [सं॰ एकान्त] जहाँ कोई न हो । एकांत । निराला । सूना । जैसे—एकांत स्थान में मैं तुमसे कुछ कहुँगा । उ॰— आइ गयो मतिराम तहाँ घर जानि एकंत अनंद से चंचल ।—मतिराम (शब्द॰) ।