एकपत्नीव्रत

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

एकपत्नीव्रत संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. एक को छोड़ दूसरी स्त्री से विवाह या प्रेम संबंध न करने का व्रत ।

२. केवल एक विवाहिता पत्नी को छोड़कर और स्त्री से विवाह या प्रेम संबंध न करने का व्रत । उ॰—'राम के तरह एकपत्नीव्रत कर सकूँगा तो कर लूँगा ।—इंद्र॰, पृ॰ ५० ।