एकमुखविक्रय

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

एकमुखविक्रय संज्ञा पुं॰ [सं॰] सबके हाथ एक दाम पर बेचना । बँधी कीमत पर बेचना । विशेष—कौटिल्य के अनुसार चंद्रगुप्त के समय में पण्य बाहुल्य अर्थात् माल की पूरी आमदनी होने पर व्यापारियों को माल बँधी कीमत पर बेचना पड़ता था । वे भाव घटा बढ़ा नहीं सकते थे ।