एकलड़ी

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

एकलड़ी †पु वि॰ [सं॰ एकल+हि॰ ड़ी (प्रत्य॰)] अकेला । एकाकी । एकला । उ॰—महि मोराँ मंड़न करइ, मनमथ अंगि न भाइ । हूँ कलड़ी किम रईऊँ मेह पधारउ भाइ । —ढ़ोला॰ दू॰, २६३ ।