एकलव्य

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

एकलव्य संज्ञा पुं॰ [सं॰] एक निषाद का नाम जिसने द्रोणचार्य की मूर्ति को गुरु मानकर उसके सामने शस्त्रभ्यास किया था ।