एकहरी

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

एकहरी संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ एकहरा] कुश्ती का एक पेंच । विशेष—इसमें जब विपक्षी सामने खड़ा होकर हाथ मिलाता है तब खिलाड़ी उसका हाथ पकड़कर अपनी दाहिनी तरफ झटका देकर दोनों हाथों से उसकी दाहिनी रान निकाल लिता है ।