ऐण्ठग्वैठ

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऐंठग्वैठ पु संज्ञा पुं॰ [हिं॰ ऐंठ+गोइँठा] तमना । खिंचना । घमंड करना । उ॰—जो पै ऐंठिग्वैठि जाइ कालि की बिटौनी ग्वालि, तो पै देसघालि दूती काहे कौ कहाइहौं ।—गंग॰, पृ॰ ६४ । क्रि॰ प्र॰—जाना ।—होना ।