ऐण्ठा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऐंठा ^१ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ ऐंठना]

१. रस्सी बटने का एक यंत्र । विशेष— इसमें एक लकड़ी होती है जिसके बीचोबीच एक छेद होता है । इस छेद में एक लट्टुदार लकड़ी पड़ी रहती है । लकड़ी के एक छोर से दूसरे छोर तक एक ढाली रस्सी बँधी रहती है जिसके बीच बटी जानेवाली रस्सी बाँध दी जाती है । लकड़ी के एक छोर एक लंगर बँधा रहता है । छेद में पड़ी हुए लकड़ी को घुमाने से बिनी जानेवाली रस्सी में एंठन पड़ती जाती है ।

२. घोंघा ।

ऐंठा ^२ वि॰ ऐंठा हुआ । घमंडी । नाराज ।