ऐपै

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऐपै पु क्रि॰ वि॰ [हिं॰ ऐ+पै] इतने पर भी । ऐते पै । उ॰—(क) ऐपै कहुँ बाको मुख देखन न पाइयै ।—घनानंद॰, पृ॰ ४६८ । (ख) उपजे बनिक कुल सेवे कुल अच्युत को, ऐपे नहि बने एक तिया रहे पास है ।—(भक्तमाल) श्रीभक्ति॰, पृ॰ ५५९ ।