ऐयार

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऐयार संज्ञा पुं॰ [अ॰] [स्त्री॰ ऐयारा]

१. चालाक । धूर्त । उस्ताद । धोखेबाज । छली । उ॰—(क) ऐयार नजर मक्कार अदा त्योरी की चढा़वत वैसी ही ।—कविता कौ॰, भा॰ ४, पृ॰ ३२७ ।(ख) उसे ऐयार पाया यार समझे जौक हम जिसकी । —शेर॰ पृ॰ ४१३ ।

२. वह व्यक्ति जो चालाकी से अनोखे काम करता हो । बहुगुण युक्त गुप्तचर या कार्यकर ।