ऐरण

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऐरण † संज्ञा पुं॰ [सं आहनन, आ+घनवा आ+धरण] दे॰ 'अहरन' । निहाई । उ॰—लोहा होय तो ऐरण मंगाऊँ धण की चोट दिराऊँ ।—राम॰ धर्म॰, पृ॰ ४४ ।