ऐस

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ऐस ^१ पु † वि॰ [हिं॰] दे॰ 'ऐसा' । उ॰—आस न, बास न, मानुष अंडा । भए चौखँड जो ऐस पखंडा ।—जायसी ग्रं॰ पृ॰ ३०४ ।

ऐस ^२ संज्ञा दे॰ [अ॰ ऐश ] दे॰ 'ऐश' । उ॰—सजन लगी है । कछु कबहूँ सिंगारन को, तजन लगी है कहुँ ऐस बैस बारी की— पद्माकर ग्रं॰, पृ॰ २०१ ।