ओग

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ओग पु संज्ञा पुं॰ [सं॰उद्+ √ग्रह हिं॰ उगहना] उगहनी । कर । चंदा । महसूल । उ॰—काहे को हमसों हरि लागत । पैंड़ों देहु बहुत अब कीनो सुनत हँसैंगे लोग । सूर हमैं मारग जनि रोकहु घर तें लीजै ओग ।—सूर (शब्द॰) ।