ओगरना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ओगरना ^२ † क्रि॰ अ॰ [सं॰ अवगरण] पानी या और किसी तरल वस्तु का धीरे धीरे टपकना या निकलना । निचुड़ना । रसना ।

ओगरना ^२ क्रि॰ स॰ निकलना । बाहर करना । प्रकट करना । उ॰—सत्त सब्द कै नेजा बाँध्यो ओगरत नाम अगारी हो ।—गुलाल॰, पृ॰ २६ ।