ओज

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ओज ^१ वि॰ [सं॰ ओजस्] विषम । अयुग्म [को॰] ।

ओज ^३ संज्ञा पुं॰ [सं॰] [वि॰ ओजस्वी, ओजित]

१. बल । प्रताप । उ॰—तेज ओज और बल जो बदान्यता कदम्ब सा ।—लहर, पृ॰ ५६ ।

२. उजाल । प्रकाश । उ॰—कामना की किरन का जिसमें मिला हो ओज । कौन हो तुम, इसी भूले हृदय की चिर खोज । —कामायनी ।

३. कविता का वह गुण जिससे सुननेवाले के चित्त में आवेश उत्पन्न हो । विशेष—वीर और रौद्र रस की कविता में यह गुण अवश्य होना चाहिए । टवर्गी अक्षरों की अधिकता, संयुक्ताक्षरों की बहुतायत और समासयुक्त शब्दों से यह गुण अधिक आता है । परुषावृत्ति में यह गुण होता है ।

४. शरीर के भीतर के रसों का सार भाग ।

५. ज्योतिष में विषम राशियाँ (को॰) ।

६. शस्त्रकौशल ।

७. गति । वेग (को॰) ।

८. पानी (को॰) ।

९. प्रत्यक्ष होना । आविर्भाव होना (को॰) ।

१०. धातु का प्रकाश (को॰) ।

११. जननशक्ति या जीवन शक्ति (को॰) ।