ओड़

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ओड़ ^१पु † संज्ञा पुं॰ [हिं॰ ओट] दे॰ 'ओट' । उ॰—गरब अगिन गहिरे सब जरा । बिनती ओड़ खरग निसतरा ।—चित्रा॰, पृ॰ १५५ ।

ओड़ ^२ पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ अवार] दे॰ 'ओर ^२' । उ॰—(क) कबार तासूँ प्रीति करि जो निरबाहै ओड़ि ।—कबीर ग्रं॰, पृ॰ ४८ । (ख) मानिनि मान आबहु कर ओड़ । रयनि लबहलि हे रहलि अछ थोड़ । —विद्यापति, पृ॰ १२२ ।

ओड़ ^३ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ औंड या देश॰]

१. वह जो गदहों पर ईँट, चूना मिट्टा आदि ढोता हो । गदहों पर माल ढोनेवाला व्यक्ति । दे॰ 'औंड' ।—वर्ण॰, पृ॰ १ ।