ओढ़नी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

ओढ़नी संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ ओढ़ना] स्त्रियों के ओढ़ने का वस्त्र । उपरेनी । फरिया । उ॰—देख ललाई स्वच्छ मधूक कपोल में; खिसक गई उर से जरतारी ओढ़ना ।—महा॰, पृ॰ १३ । मुहा॰—ओढ़नी बदलना=बहनापा जोड़ना । सखी बनना । बहन का संबंध स्थापित करना ।