औपश्लेषिक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

औपश्लेषिक (आधार) संज्ञा पुं॰ [सं॰] व्याकरण में अधिकरण कारक के अतर्गत तीन आधारों में से वह आधार जिसके किसी अंश ही से दूसरी वस्तु का लगाव हो । जैसे,—वह चटाई पर बैठा है । वह बटलोई में पकाता है । यहाँ चटाई और बटलोई औपश्लेषिक आधार हैं ।