कँगना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कँगना ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ कङ्कु] [स्त्री॰ कँगनी]

१. दे॰, 'कंकण' । उ॰—गियँ अमरन पहिरैं जहँ ताई । औ पहिरै कर कँगन कलाई ।—जायसी ग्रं॰ (गुप्त), पृ॰ ३२२ ।

२. वह गीत जो कंकण बाँधते या खोलते समय गाया जाता है ।

कँगना ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ कङ्क] एक प्रकार की घास जिस बैल, घोड़े आदि बहुत खाते हैं । यह पहाड़ी मैदानों में अधिक होती है । साका ।