कँगनो

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कँगनो ^१ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ कँगना]

१. छोटा कँगना । आभूषण- विशेष । लाह ही मोटी लाल या पीला चूड़ी ।

२. छत या छाजन के नीचे दीवार में रीढ़ सी उभड़ी हुई लकीर जो खूब- सूरती के लिये बनाई जाती है । कगर कानिस ।

३. कपड़े का वह छल्ला जो नैचाबंद नैचे की मुहनाल के पास लगाते हैं ।

४. गोल चक्कर जिसके बाहरी किनारे पर दाँत या नुकीले कँगूरे हों । दानेदार चक्कर ।

५. ऐसे चक्कर पर गोल उभड़े हुए दाने ।