कंगण

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कंगण संज्ञा पुं॰ [सं॰ कङ्कण]

१. लोहे का एक चक्र जिसे अकाली सिक्ख सिर में बाँधते हैं ।

२. दे॰ 'कंकण' ।