कंचुकी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कंचुकी ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ कञ्चुकी]

१. अँगिया । चोली । उ॰— कबहिं गुपाल कंचुकी फारी कब भए ऐसे जोग ।—सूर॰, १० । ७७४ ।

२. केंचुल । उ॰—सुंदर षाली कंचुकी नीकसि भागौ साँप ।—सुंदर ग्रं॰, भा॰ २, पृ॰ ७१० ।

कंचुकी ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ कञ्चुकिन्]

१. रनिवास के दास दासियों का अध्यक्ष । अंतःपुररक्षक । विशेष—कंचुकी प्रायः बड़े बूढ़े और अनुभवी ब्राह्मण हुआ करते थे जिनपर राजा का पूरा विश्वास रहता था ।

२. द्वारपाल । नकीब ।

३. साँप ।

४. छिलकेवाला अन्न, जैसे,— धान, जौ चना इत्यादि ।

५. व्यभिचारी । लंपट (को॰) ।