कंटक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कंटक संज्ञा पुं॰ [सं॰ कण्टक] [वि॰ कंटकित]

१. काँटा । उ॰—ध्वज कुलिस अकुस कंज जुत बन फिरन कंटक किन लहे ।—मानस, ७ । १३ ।

२. सूई की नोक ।

३. क्षुद्र शत्रु ।

४. वाममार्गवालों के अनुसार वह पुरुष जो वाममार्गी न हो या वाममार्ग का विरोधी हो । पशु ।

५. विघ्न । बाधा । बखेड़ा ।

६. रोमांच ।

७. ज्योतिष के अनुसार जन्मकुंडली में पहला, चौथा, सातवाँ और दसवाँ स्थान ।

८. बाधक । विघ्नकर्ता । उ॰—जो निज गो—द्विज देव धर्म कर्मों का कंटक ।—साकेत पृ॰ ४१७ ।

९. बख्तर । कवच ।—डिं॰ । यौ॰—निष्कंटक ।