कंडा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कंडा ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ स्कन्दन = मलत्याग] [स्त्री॰ अल्पा॰ कंडी]

१.

१. सूखा गोबर जो ईंधन के काम में आता है । मुहा॰—कंडा होना = (१) सूखना । दुर्बल होना । ऐंठ जाना । (२) मर जाना । जैसे,—ऐसा पटका कि कंडा हो गया ।

२. लंबे आकार में पथा हुआ सूखा गोबर जो जलाने के काम में आता है ।

३. सूखा मल । गोटा । सुद्दा ।

कंडा ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ कण्डा] मूँज के पौधे का डंठल जिसके चिक, कलम, मोढे़ आदि बनाए जाते हैं । सरकंडा ।