कंडिका

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कंडिका ।

३. स्तोत्र । स्तुति । उ॰—लगे पढ़न रच्छा ऋचा ऋषिराज बिराजे ।—तुलसी ग्रं॰, पृ॰ २७१ ।

कंडिका संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ कण्डिका]

१. वेद की ऋवाओं का समूह ।

२. वैदिक ग्रंथों का एक छोटा वाक्य, खंड या अवयव । पैरा ।