कंदला

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कंदला ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ कन्दल = सोना]

१. चाँदी की वह गुल्ली या लंबा छड़ जिससे तारकश तार बनाते हैं । पासा । रैनी । गुल्ली । विशेष—तार बनाने के लिये चाँदी को गलाकर पहले उसका एक लंबा छड़ बनाया जाता है । इस छड़ के दोनों छोर नुकीले होते हैं । अगर सुनहला तार बनाना होता है, तो उसके बीच में सोने का पत्तर चढा़ देते हैं, फिर असको यंत्री में खींचते हैं । इस छड़ को सुनार गुल्ली ओर तारकश कंदला, पासा ओर रैनी कहते हैं । मुहा॰—कंदला गलाना = (१) चाँदी और सोना मिलाकर एक साथ गलाना । (२) सोने या चाँदी का पतला तार । यौ॰—कंदलाकश । कंदलाकचहरी ।

कंदला ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ कन्दल] एक प्रकार का कचनार । दे॰ 'कचनार' ।

कंदला ^२पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ कन्दरा] कंदरा । गुफा । उ॰—दिक्यौ सुवीर कंहला रोह ।—पृ॰ रा॰, १ ।३९८ ।

कंदला कचहरी संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ कन्दला + कचहरी] वह जगह जहाँ कंदलाकशी का काम होता है । तार का कारखाना । कंदले का कारखाना ।