कटोरा

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कटोरा संज्ञा पुं॰ [हिं॰ काँसा+ ओरा (प्रत्य॰) = कँसोरा या सं॰ कटोरा] एक खुले मुँह, नीची दीबार और चौड़ी पेंदी का छोटा बरतन । साधु का प्याला । बेला । मुहा॰—कटोरा चलाना = मंत्रबल से चोर माल का पता लगाने के लिये कटोरा खसकाना । विशेष—इसमें एक आदमी मंत्र पढ़ता हुआ पीली सरसों डालता जाता है और औरों से कटोरे को खूब दबाने के लिये कहता जाता है । कटोरा अधिक दाब पड़ने से किसी न किसी ओर खसकता जाता है । लोगों का विशवास है कि कटोरा वहीं रुकता है जहाँ चोर या माल रहता है । कटोरा सी आँख = बड़ी बड़ी और गोल आँख ।