सामग्री पर जाएँ

कण्व

विक्षनरी से

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कण्व संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. एक मंत्रकार ऋषि जिनके बहुत से मंत्र ऋग्वेद में हैं ।

२. शुक्ल यजुर्वेद के एक शाखाकर ऋषि । इनकी संहिता भी है और ब्राह्मण भी । सायणाचार्य ने इन्हीं की संहिता पर भाष्य किया है ।

३. कश्यप गोत्र में उत्पन्न एक ऋषि जिन्होंने शकुंतला को पाला था ।