करना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

क्रिया[सम्पादन]

अनुवाद[सम्पादन]

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

करना चाहीए, इसका बोध न होना ।

३. निश्चय का का अभाव ।

४. स्फुर्ति का अभाव [को॰] ।

५. असफलता [को॰] ।

६. जड़ता [को॰] ।

करना ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ कर्ण] एक पौधा । सुदर्शन । उ॰—(क) मौल- सिरी बेइलि औ करना । सबै फूल फूले बहुबरना ।—जायसी ग्रं॰, पृ॰ १३ । (क) करना के करनफूल करन बीच धारे । भारतेंदु ग्रं॰, भा॰ २, पृ॰ ४४० । विशेष—इसके पत्ते केवड़े के पत्ती की तरह लंबे लंबे पर बिना काँटे के होते हैं । इसमें सफेद सफेद फूल लगते हैं जिनमें हलकी मीठी महक होती है ।

करना ^२पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ करुणा] बिनौरे की तरह का एक बड़ा नीबू । विशेष—यह कुछ लंबोतरा होता है । इसे पहाड़ी नीबू भी कहते है । वैद्यक में इसको कफ, वायुनाशक और वित्तवर्धक बताया है ।

करना ^३पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ करण] किया हुआ काम । करनी । करतूत । उ॰—अति अपार करता कर करना । बरन न कोई पावै बरना ।—जायसी (शब्द॰) ।

करना ^४ क्रि॰ स॰ [सं॰ करण]

१. किसी काम को चलाना । किसी क्रिया को समाप्ति की ओर ले जाना । निबटाना । भुगताना । सपराना । अमल में जाना । अंजाम देना । संपादित करना । जैसे,—यह काम चटपट कर डालो । संयो॰ क्रि॰—आना ।—छोड़ना ।—जाना ।—डालना ।—देखना ।—दिखाना ।—देना ।—धरना ।—पाना ।—बैठना —रखना ।—लाना ।—लेना ।

२. पकाकर तैयार करना । राँधना । जैसे, रसोई करना, दाल करना, रोटी करना । विशेष—इसका प्रयोग ऐसी संज्ञाओं के साथ ही होता है जो तैयार की हुई वस्तुओं के नाम है, प्राकृत पदार्थों के नामों के साथ नहीं जैसे, दूध करना, पानी करना, कोई नहीं कहता ।

३. ले जाना । पहुचाना । रखना । जैसे,—(क) इस किताब को जरा पीछे कर दो । (ख) इनको इनके बाप के यहाँ कर आओ ।

४. धारण करना । उ॰—कंबु कंठ कौस्तुभ मनि धरे । संख चक्र आयुध कर करे—नंद॰ ग्रं॰, पृ॰ २६७ । मुहा॰—किसी वस्तु में करना=किसी वस्तु में घुसाना । डालना । जैसे,—तलवार म्यान में कर लो । कर गुजरना=विलक्षण या साहसिक कार्य कर डालना ।

५. पति या पत्नी रूप से ग्रहण करना । खसम या जोरू बनाना । जैसे,—उस स्त्री ने दूसरा कर लिया ।

६. रोजगार खोलना । व्यवसाय खोलना । जैसे,—दलाली करना, दूकान करना, प्रेस करना । विशेष—वस्तुवाचक संज्ञा के साथ इसका प्रयोग इस अर्थ में दो चार इने गिने शब्दों के साथ ही होता है ।

७. सवारी ठहराना । भाड़े पर सवारी लेना । जैसे, गाड़ी करना, नाव करना, पालकी करना । उ॰—पैदल मत जाना, रास्ते में एक गाड़ी कर लेना ।

८. रोशनी बुझाना । प्रकाश बुझाना । जैसे,—सबेरा हुआ चाहता है, अब दिया कर दो ।

९. कोई रूप देना । किसी रूप में लाना । एक रूप से दूसरे रूप में जाना । बनाना । जैसे,—(क) उन्होंने उस चाँदी के कटोरे को सोना कर दिया । (ख) गधे को मार पीटकर घोड़ा नहीं कर सकते ।

१०. कोई पद देना । बनाना । जैसे,—कलक्टर ने उनपर प्रसन्न होकर उन्हें तहसीलदार कर दिया ।

११. किसी वस्तु को पोतना । जैसे,—स्याही करना, रंग करना, चूना करना ।

१२. पशुओं का वध या जबह करना । जैसे,—उसने आज १५ बकरियाँ की हैं ।

१३. संभोग करना । प्रसंग करना ।