कलंक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

संज्ञा पुल्लिंग

  1. बदनामी
  2. अंगुल्यानिर्देश
  3. लांछन
  4. अंगुश्तनुमाई
  5. बुराई
  6. दोषारोपण

प्रयोग

संबंधित शब्द

अन्य भाषा में

वर्णक्रम सहचर

अनुवाद

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

कलंक संज्ञा पुं॰ [सं॰ कलङ्क] [वि॰ कलकित, कलंकी ]

१. दाग । धब्बा ।

२. चंद्रमा पर काला दाग । यौ॰— कलंकांक ।

३. लांछन । बदनामी ।

४. ऐब । दोष । क्रि॰ प्र॰— छूटना ।— देना । —लगना ।— लगाना । मुहा॰— कलंक चढ़ाना = कलंक या दोष लगाना । कलंक का टीका लगाना = दोष या धब्बा लगना । लांछन लगना । अपयश होना । उ॰— बूढ़ा़ आदमी हूँ, इस बुढ़ौती में कलंक का टीका लगे तो कहीं का न रहूँ । फइसाना॰, भा॰ ३, पृ॰ ११६ ।

५. वह कजली जो पार सिद्ध हो जाने पर बैठ जाती है । उ॰— करत न समुझत झूठ गुन सुनत होत मतिरंक । पारद प्रगट प्रपंच मय सिद्धिउँ नाउ कलंक ।— तुलसी (शब्द॰) ।

३. पारे और गंधक की कजली । उ॰— जौ लहि घरी कलंक न परा । काँच होहि नहि कंचन करा ।— जायसी (शब्द॰) ।

७. लोहे का मुरचा ।

कलंक ^२ पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ कल्कि, कलंकी †] दे॰ 'कल्कि' । यौ॰— कलंक सरूप = कल्कि रूप या अवतार । उ॰— कलि कलिमल सौं कलंक सरूप ।— पृ॰ रा॰, २ । ५७१ ।