काम्य

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

काम्य ^१ वि॰ [सं॰]

१. जिसकी इच्छा हो ।

२. जिससे कामना की सिद्धि हो । जैसे,—काम्य कर्म ।

काम्य ^२ संज्ञा पु॰ [सं॰] वह यज्ञ या कर्म जो किसी कामना की सिद्धि के लिये किया जाय । जैसे—पुत्रोष्टि, कारीरी । विशेष—यह अर्थ कर्म के तीन भेदों में से है । काम्य कर्म भी तीन प्रकार का कहा गया है—ऐहिक वह है जिसका फल इस लोक में मिले जैसे,—पुत्रोष्टि और कारीरी । आमुष्मिक—वह है जिसका फल परलोक में मिले, जैस अग्निहोत्र । ऐहिकामुष्मिक का फल कुछ इस लोक में और कुछ परलोक में मिलता है ।