कारणमाला

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कारणमाला संज्ञा स्त्री॰ [सं॰] हेतुओं की श्रेणी ।

२. काव्य में एक अर्थालंकार जिसमें किमी क्रण से उत्पन्न क्र्य पुनः किसी अन्यकार्य का कारण होता हुआ वर्णन किया जाय । जैसे—दल ते बल, बल ते विजय, ताते राज हुलास । कृत ते सुत, सुत ते सुयश, यश ते दिवि नहँ वास ।