कि

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कि ^१ क्रि॰ वि॰ [सं॰ किंम्] किस प्रकार? कैसे? उ॰—जगदंबा जहँ अवतरी, मो पुर वरणि कि जाय । ऋद्धि सिद्धि संपत्ति सुख, नित नूतन अधिकाय ।—तुलसी (शब्द॰) ।

कि ^२ अव्य॰ [फा॰ कि]

१. एक संयोजक शब्द जो कहना, वर्णन करना, देखना, सुनना इत्यादि क्रियाओं के बाद उनके विषयवर्णन के पहले आता है । जैसे,—(क) उसने कहा कि मैं नहीं जाऊँगा । (ख) राम ने देखा कि आगे एक साँप पड़ा है । (ग) जब उसने सुना कि उसका भाई मर गया, तब वह भी सन्यासी हो गया ।

२. तत्क्षण । त्काल । तुरंत । जैसे,—(क) मै जानै ही को था कि वह आ गया । (ख)