किस

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

किस ^१ सर्व॰ [सं॰ कस्य] 'कौन' का वह रूप जो उसे विभक्ति लगने के पहले प्राप्त होता है । जैसे—किसने, किसको, किसमें इत्यादि ।

किस ^२ वि॰ 'कौन का वह रूप जो उसे उस समय प्राप्त होता । है जब उसके विशेष्य में विभक्ति लगाई जाती है । जैसे, किस व्याक्ति को, किस वस्तु में । विशेष—इस शब्द के अंत में जब निश्चयार्थक 'ही' लगता है, तब उसका रूप 'किसी' हो जाता है ।