केरल

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

व्यक्तिवाचक संज्ञा

  1. भारत का एक दक्षिणी राज्य।

यह भी देखें

विकिपीडिया
केरल को विकिपीडिया,
एक मुक्त ज्ञानकोश में देखें।

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

केरल संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. दक्षिण भारत का एक देश । विशेष—यह कन्याकुमारी से गोकर्ण तक मलयवार (मलाबार) पर समुद्र के किनारे किनारे फैला हुआ है । इस देश की सीमा भिन्न भिन्न समयों में बदलती रही है । तंर्त्रो के अनुसार केरल के तीन विभाग थे । (१) सिद्ध केरल (सुव्रह्मण्य से जनार्दन तक), (२) हंस केरल ( रामेश्वर से वेंकटगिरि तक) और (३) केरल (अनंतशैल से अव्यय तक) । आजकल इस देश को कनारा (कन्नड़) कहते हैं और यहाँ कनारी (कन्नड़) भाषा बोली जाती है ।

२. [स्त्री॰ केरली] केरल देशवासी पुरूष ।

३. एक प्रकार का पलित ज्योतिष, जिसका आविष्कार केरल देश में हुआ था । इसमें स्वर और व्यंजन अक्षरों के लिये कुछ अंक नियत होते हैं और उन्हीं की सहायता से गणित करके प्रश्न का फल या उत्तर निकाला जाता है ।

४. एक घंटे के बराबर का समय । होरा (को॰) ।