कैंची

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कैंची संज्ञा स्त्री॰ [ तु॰]

१. लाल कपडे़ आदि काटने या कतरने का एक औजार । कतरनी । विशेष—इसमें समान आकृति के दो लंबे फाल होते हैं जो परस्पर एक दूसरे के ऊपर रखकर कील से जडे़ जाते हैं । कैंची कई प्रकार की होती है — जैसे बाल काटने की कैंची, बत्ती काटने की कैची, दर्जी की कैची लोहार की कैंची बागबान की कैची, डाक्टर की कैंची इत्यादि । मुहा॰— कैंची करना = काटना छाँटना । जैसे— बागवान पेड़ो को कैंची कर रहा है । कैची काटना = नजर बचाकर निकल जाना । रास्ता काटकर निकल जाना । कतराना । (२) पहले कहकर किसी बात मे इनकार कर जाना । काट जाना । कैंचि बाँधना = (१) दोनों रानों से दबाना । — (सवार) । (२) बिपक्षी को अपने नीचे लाकर दोनों रानों से दबाना ।— (कुश्ती) । कैंची लगाना = (१) काटना । बाल छाँटना कलम करना । (२) सिर के बालों को कैंची से काटना । छाँटना ।

२. दो सीधी तीलियाँ या लकड़ियाँ जो कैंची की तरह एक दूसरी के ऊपर तिरछी रखी, बाँधी या जडी हों ।