कोह

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

कोह पु सर्व॰ [हि॰ कोई] दे॰ 'कोई' उ॰— लोग कहहिं यह होइ न जोगी । राजकुँवर कोई अहै वियोगी । —जायसी ग्रं॰, (गुप्त)॰ पृ॰, २९४ ।

कोह ^१ संज्ञा पुं॰ [फा॰] पर्वत । पहाड़ । यौ॰—कोहिस्तान ।

कोह ^२ † संज्ञा पुं॰ [सं॰ क्रोध] क्रोध । गुस्सा । उ॰—किंकर, कंचन, कोह काम के ।—तुलसी (शब्द॰) ।

कोह ^३ संज्ञा पुं॰ [सं॰ ककुभ, प्रा॰ कउह] अर्जुन वृक्ष ।

कोह ^४ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ खेह, पुं॰ हिं॰ खोहिं खोह] धूल । गर्द । उ॰— राण दिस हालिया ठांण आराण रुख, कोह आसमाँण चढ़ भाण ढंका ।—रघु रू॰, पृ॰ १४९ ।