क्षुर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

क्षुर संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. छुरा । उस्तरा । यौ॰—क्षुरकर्म, क्षुरक्रिया = हजामत । क्षुरचतुष्टय = हजामत के लिये आवश्यक उस्तरा, जल, कुशतृण और ब्रश आदि ४ वस्तुएँ ।

२. वह बाण जिसकी गाँसी की धार छुरे के सदृश होती है ।

३. गोखरू ।

४. पशुओं के पावँ का खुर ।

५. शय्या का पावा । चारपाई का गोड़ा [को॰] ।