खटमल

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

खटमल संज्ञा पुं॰ [हिं॰ खाट + मल = मैल] मटमैले उन्नबी रग का एक प्रसिद्ध कीड़ा जो गरमी में मैली खाटों, कुरसियों और विस्तरों आदि में उत्पन्न होता है । खटकीड़ा । उड़स । विशेष—यह अपने डंक द्वारा मनु्ष्य के शरीर से रक्त चूसता है । यह आकार में प्राय: उरद के दाने के बराबर होता है; और इसके अंडे बहुत छोटे छोटे और सफेद होते हैं । अंडे से निकलने के प्राय: तीन मास बाद यह पूरे आकार का होता है । इसे छूने से बहुत बुरी दुगँध निकलती है । बहुत अधिक गरमी या सरदी में यह मर जाता है ।