खीर

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

खीर ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ क्षीर] दूध में पकाया हुआ चावल । विशेष — लोग प्राय: तीखुर, घीया (लौआ) या इसी प्रकार के और पदार्थ भी दूध में पकाते हैं, जिसे खीर कहते हैं । मुहा॰—संज्ञा खीर चटाना = बच्चे को पहले पहुल अन्न खिलाना । अन्नप्राशन नामक संस्कार ।

खीर ^२पु संज्ञा पुं॰ [सं॰ क्षीर ] दूध । उ॰— (क) भरत बिनय सुनि सबहि प्रसंसी । खीर नीर बिबरन गति हँसी । — मानस, २ ।३१३ । (ख) खीर खडानन को मद केशव सो पल में करि पान लियोई — केशव (शब्द॰) ।