खोपड़ी

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
खोपड़ी

सिर। सिर का अस्थियों वाला हिस्सा जो मस्तिष्क को चारों तरफ से घेरे रहता है।

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

खोपड़ी संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ खोपड़ा]

१. सिर की हड्डी । कपाल ।

२. सिर । मुहा॰-अंधी खोपड़ी का, औंधी खोपड़ी का = नासमझ । मूर्ख । खोपड़ी खा जाना = बहुत बात करके दिक करना । खोपड़ी खुजलाना = (१) कोई ऐसी बात या शरारत करना जिससे मार खाने की नौबत आवे । मार खाने को जी चाहना । जैसे,—तुम न मानोगे, तुम्हारी खोपड़ी खुजला रही है । (२) सिर पर जूता मारना । खोपड़ी गंजी होना = मार खाते खाते सिर के बाल झड़ जाना । सीर पर खूब जूते पड़ना । खोपड़ी गंजी करना = मारते मारते सिर के बाल न रहने देना । सिर पर खूब जूते लगाना । खोपड़ी चटकना = अधिक धूप, प्यास या पीड़ा के कारण सिर में गर्मी और चक्कर मालूम होना । सिर टनकना । खोपड़ी चाट जाना = बकवाद करके तंग करना ।

खोपड़ी का सार भाग ।— उ॰—सोनित सो सानि गूदा खात सतुआ से एक एक प्रेत पियत बहोरि घोरि घोरि कै ।— तुलसी (शब्द॰) । मुहा॰—मारते मारते गूदा निकालना = गहरी मार मारना ।

३. किसी चीज के भीतर का सार भाग । मींगी । गिरी ।

४. किसी वस्तु का सार भाग । मुहा॰—बातों का गूदा निकालना = बाला की खाल निकालना । बहुत खोद विनोद करना ।