गंडांत

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

गंडांत दे॰ पुं॰ [सं॰ गण्ड़ान्त] फलित ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ज्येष्ठा, श्लेषा और रेवती के अंत के पाँच या तीन दड़ तथा मूल, मघा और अश्विनी के अंत के तीन दंड़ । विशेष—इनमें उत्पन्न होनेवाले बालक दोषी माने जाते है और उनके उस दोष की शांति के लिये पूजा की जाती है ।