गजर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

गजर ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ गर्ज, हिं॰ गरज]

१. पहर पहर पर घंटा बजने का शब्द । पारा । उ॰—पहरहि पहर नजर नित होई । हिया निसोगा जान न कोई ।—जायसी (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—बजना ।

२. घंटे का वह शब्द जो प्रातःकाल चार बजे होता है । सबेरे के समय का घंटा । उ॰—फजर को गरज बजाऊँ तेरे पास मैं ।—सूदन (शब्द॰) । मुहा॰—गजरदम या गजरवजे = तड़के । पौ फटते । पास भोरे । जैसे,—वह गजरदम उठ खड़ा हुआ । गजर का वक्त = सबेरा । उषःकाल । जैसे—उठो गजर का वक्त हुआ; ईश्वर का नाम को ।

३. जगाने की घंटी । जगौनी । अलारम ।

४. चार, आठ और बारह बजने पर उतनी ही बार जल्दी जल्दी फिर घंटा बजने का शब्द ।

गजर ^२ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ गजर बजर = मिला जुला] लाल और सफेद मिला हुआ गेहूँ ।

गजर बजर संज्ञा पुं॰ [अनु॰]

१. घाल मेल । बेमेल की मिला- वट । अंडथंड । क्रि॰ प्र॰—करना । होना ।

२. खाद्याखाद्य । भक्ष्याभक्ष्य । पथ्यापथ्य । जैसे,—लड़के ने कुछ गजर बजर खा लिया होगा ।