गर्व

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

गर्व संज्ञा पुं॰ [सं॰] [वि॰ गर्वित, गर्ववान्]

१. अहंकार । घमंड़ ।

२. एक प्रकार का संचारी भाव । अपने को सब से बड़ा और दूसरों को अपने से छोटा समझने का भाव ।